बैंक यूनियनों ने 31 जनवरी और एक फरवरी को दो दिन की हड़ताल का आह्वान किया है. बुधवार को भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के साथ वेतन बढ़ोत्तरी पर बातचीत विफल रहने के बाद यह निर्णय किया गया है.

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक नौ ट्रेड यूनियनों का प्रतिनिधित्व करने वाले ‘यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स’ यानी यूएफबीयू ने इसकी जानकारी दी है. संस्था के मुताबिक बैंक कर्मचारी 11-13 मार्च को भी तीन दिन की हड़ताल करेंगे.

कोलकाता में यूएफबीयू के राज्य संयोजक सिद्धार्थ खान ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘इस सबके के अलावा हमने एक अप्रैल 2020 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय भी किया है.’

यूएफबीयू वेतन में कम-से-कम 15 प्रतिशत वृद्धि की मांग कर रहा है, लेकिन आईबीए ने 12.25 प्रतिशत बढ़ोतरी की सीमा तय की है. सिद्धार्थ खान ने साफ़ तौर पर कहा है कि कर्मचारी यूनियनों को यह बढ़ोत्तरी स्वीकार्य नहीं है. यूएफबीयू और आईबीए के बीच वेतन संशोधन को लेकर पिछली बैठक 13 जनवरी को हुई थी.