अमेरिका ने बुधवार को चीन के साथ पहले चरण के व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए. इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसे ऐतिहासिक समझौता बताया. यह खबर पूरी दुनिया के लिए बड़ी राहत जैसी है क्योंकि करीब दो साल की बातचीत के बाद दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थायें व्यापार युद्ध से आगे बढ़कर किसी समझौते पर सहमत हुई हैं.

पीटीआई के मुताबिक न्यूयॉर्क में हुए इस पहले चरण के समझौते में बौद्धिक संपदा संरक्षा और प्रवर्तन, जबरन प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को खत्म करना, अमेरिकी कृषि के अभूतपूर्व विस्तार, अमेरिकी वित्तीय सेवाओं से अवरोध हटाने पर सहमति बनी है. इसके अलावा इस समझौते में मुद्रा के साथ छेड़छाड़ (जैसे अवमूल्यन आदि) खत्म करना, अमेरिका-चीन व्यापार संबंधों को पुन: संतुलित करना और समस्याओं का प्रभावी समाधान निकालना शामिल है. चीन की तरफ से इस समझौते पर उप प्रधानमंत्री लियू हे ने हस्ताक्षर किए हैं.

अमेरिका और चीन के बीच व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर के तुरंत बाद अमेरिका सहित दुनियाभर के शेयर बाजारों में भारी उछाल देखने को मिला है. अमेरिकी सूचकांक डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज और एसएंडपी 500 ने रिकॉर्ड बनाया. डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज 0.3 प्रतिशत की बढ़त के साथ 29,030.22 और एसएंडपी 500 भी 0.2 प्रतिशत की बढ़त के साथ 3,289.30 पर बंद हुआ. वहीं, नैस्डैक कॉम्पोसिट 0.1 प्रतिशत चढ़कर 9.258.70 पर बंद हुआ.

उधर, गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार में भी तेजी देखने को मिली है. सेंसेक्स और निफ्टी उछाल के साथ खुले हैं. सेंसेक्स 137.21 अंकों के उछाल के साथ 42,006.38 के रिकॉर्ड अंकों पर पहुंच गया है जबकि निफ्टी 12,377.80 के आंकड़ों पर काम कर रहा है.