‘मेरा व्यवहार है, मुझे बधाई देनी चाहिए थी. उन्होंने जवाब नहीं दिया तो भी मुझे तो अच्छा लगा कि अब अगली बार से बधाई नहीं देंगे.’

— अखिलेश यादव, सपा प्रमुख

अखिलेश यादव ने यह बात बसपा प्रमुख मायावती के बारे में कही. उन्होंने 15 जनवरी को बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती को जन्मदिन के मौके पर ट्विटर पर बधाई दी थी. मगर उनकी बधाई का मायावती की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. पिछले साल इस मौके पर अखिलेश यादव ने व्यक्तिगत रूप से जाकर मायावती से मुलाकात की थी. अखिलेश यादव ने कहा कि सपा अब किसी दल से गठबंधन नहीं करेगी.

‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के बीच मनमुटाव हो गया है, जिसके चलते पूरा देश पिस रहा है.’  

— भूपेश बघेल, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह बात रायपुर में एक आयोजन में कही. उन्होंने कहा कि एनआरसी पर नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह अलग-अलग बात कर रहे हैं. उनका यह भी कहना था कि बीते पांच साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के थे और वर्तमान सरकार के जो सात माह हुए हैं, वे गृहमंत्री अमित शाह के हैं.


‘हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां कन्विक्ट की सुनी जाती है.’

— आशा देवी, निर्भया की मां

निर्भया की मां ने यह बात दोषियों की सजा की तारीख बदले जाने पर निराशा जताते हुए कही. उन्होंने कहा कि जो मुजरिम चाहते थे वही हो रहा है. चारों दोषियों की फांसी की तारीख पहले 22 जनवरी तय की गई थी. लेकिन अब इसे एक फरवरी कर दिया गया है.