‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को एनआरसी के बजाय देश के बेरोजगार लोगों के लिए ‘नेशनल रजिस्टर ऑफ अनइंप्लॉयड यूथ’ बनाना चाहिए.’  

— दिग्विजय सिंह, कांग्रेस नेता

दिग्विजय सिंह ने यह बात सीएए और एनआरसी पर विपक्षी दलों के विरोध को देश में अधिकांश हिंदुओं का समर्थन न मिलने के बारे में पूछे गये एक सवाल पर कही. उन्होंने भाजपा पर देश के बेरोजगारों को रोजगार देने की जगह धर्म के नाम पर बरगलाने का आरोप लगाया. दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा ने भावनाएं भड़का कर लोगों को वोट कमाने का एक माध्यम बना लिया है.

‘उनको जहां अच्छा लगे जाएं. मेरी शुभकामना है.’

— नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह बात पार्टी सहयोगी पवन वर्मा द्वारा एक पत्र सार्वजनिक किए जाने पर कही. उन्होंने कहा कि चिट्ठी सार्वजनिक करने के बजाय पवन वर्मा को पार्टी फोरम में आकर बात करनी चाहिए थी. जेडीयू महासचिव पवन वर्मा ने नीतीश कुमार को लिखी एक चिट्ठी ट्विटर पर साझा की थी. इसमें उन्होंने दिल्ली में भाजपा के साथ जेडीयू के गठबंधन पर नाराजगी जताई थी.


‘इस विरोध प्रदर्शन से पुलिस अपने अंदाज में निपटेगी.’

— योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ ने यह बात नागरिकता संशोधन कानून यानी सीएए के विरोध को लेकर कही. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि कायर लोगों ने महिलाओं और बच्चों को आगे कर दिया है. उनका यह भी कहना था कि सभी को विरोध करने का अधिकार है, लेकिन देश विरोधी गतिविधियां बर्दाश्त नहीं की जाएंगी.