प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज विभिन्न श्रेणियों में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता बच्चों से मुलाकात की. पीटीआई के मुताबिक इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आपके साहसिक कार्यों से मुझे भी प्रेरणा मिलती है.’ नरेंद्र मोदी का आगे कहना था, ‘इतनी कम आयु में जिस प्रकार आप सभी ने अलग-अलग क्षेत्रों में जो प्रयास किए, जो काम किया है वो अदभुत है.’

नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2020 के 49 विजेताओं के साथ यह बातचीत अपने आवास पर की. ये 49 पुरस्कृत बच्चे देश के विभिन्न राज्यों के हैं. इन्होने कला और संस्कृति, नवाचार, प्रतिभा, समाज सेवा, खेल और बहादुरी जैसे क्षेत्रों में पुरस्कार प्राप्त किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन सभी बच्चों की हौसलाअफजाई की. उनका कहना था, ‘मैंने लाल किले से कहा था- कर्तव्य पर बल. ज्यादातर हम अधिकार पर बल देते हैं. आप अपने समाज के प्रति, राष्ट्र के प्रति अपनी ड्यूटी के लिए जिस प्रकार से जागरूक हैं, ये देखकर गर्व होता है. आप सब कहने को तो बहुत छोटी आयु के हैं, लेकिन आपने जो काम किया है उसको करने की बात तो छोड़ दीजिए, उसे सोचने में भी बड़े-बड़े लोगों के पसीने छूट जाते हैं.’

हर वर्ष गणतंत्र दिवस के मौके पर वीरता दिखाने वाले बच्‍चों को सम्‍मानित किया जाता है. इसकी शुरुआत वर्ष 1957 में भारतीय बाल कल्याण परिषद ने की थी. इस सम्‍मान के तौर पर एक पदक, प्रमाण पत्र और 20-20 हजार रुपये की नकद राशि दी जाती है. इस बार वीरता के साथ इस पुरस्कार में कई और श्रेणियां भी जोड़ी गई हैं.