राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह में रविवार को पहली बार ‘धनुष’ तोप का प्रदर्शन किया गया. यह प्रदर्शन कैप्टन मृगांक भारद्वाज की कमान में किया गया. 155एमएम/45 कैलीबर धनुष तोप को होवित्जर तोप की तरह डिजाइन किया गया है. यह आयुध निर्माणी बोर्ड द्वारा स्वदेश निर्मित है.

अधिकतम 36.5 किलोमीटर दूरी की मारक क्षमता वाली इस तोप में स्वचालित बंदूक अलाइनमेंट और पोजिशनिंग की भी क्षमता है. इस तोप को सेना की भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बनाया गया है.

धनुष के अलावा भारतीय वायु सेना में शामिल किए गए चिनूक और अपाचे युद्धक हेलीकॉप्टर भी गणतंत्र दिवस परेड में आकर्षण का मुख्य केंद्र रहे. चिनूक दूरदराज के स्थानों तक व्यापक स्तर पर सामग्री को पहुंचा सकता है. यह ट्वीन रोटर वाला हेलीकॉप्टर है जिससे भारतीय वायु सेना की सैन्य और आपदा संबंधी भार क्षमता बढ़ी है.

अपाचे युद्धक हेलीकॉप्टर हवा से हवा और हवा से जमीन पर मार करने वाली मारक क्षमता वाला हेलीकॉप्टर है जो दुश्मनों पर कहर ढा सकता है. इससे भारतीय सशस्त्र बलों को दुश्मनों के खिलाफ युद्धक्षेत्र में महत्वपूर्ण बढ़त मिलती है.