केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र शरजील इमाम पर निशाना साधा है. सोमवार को दिल्ली के रिठाला में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, ‘आपने शरजील इमाम का एक वीडियो देखा होगा जिसमें वह उत्तर-पूर्व को भारत से अलग करने की बात करता है. उसने देश को बांटने की बात की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली पुलिस को उसके खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज करने का कहा. पीएम मोदी के कहने पर पुलिस ने उसके खिलाफ केस दर्ज किया है.’

गृह मंत्री अमित शाह का आगे कहना था, ‘कुछ समय पहले जेएनयू में भारत तेरे टुकड़े हो एक हजार नारे लगे थे. प्रधानमंत्री ने इन नारे लगाने वालों को उठाकर जेल में डाल दिया. ये कहते हैं कि उन्हें वाणी की स्वतंत्रता का अधिकार है.’

इस दौरान शाह ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का जिक्र करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक प्रताड़ित अल्पसंख्यकों के लिए मोदी जी सीएए लेकर आए. लेकिन केजरीवाल बोलते हैं कि भाजपा को पाकिस्तानियों की चिंता है. शर्म करो केजरीवाल, चुल्लू भर पानी में डूब मरो.’

अमित शाह ने अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए यह भी कहा, ‘राजनीति करने वाले तो बहुत देखे हैं, मगर इतनी ओछी और नीची राजनीति करने वाला मुख्यमंत्री मैंने अपने जीवन में नहीं देखा. दिल्ली के करोड़ों गरीबों को 5 लाख की योजना से उन्होंने अलग-थलग कर दिया.’