दिल्ली की एक अदालत ने 2013 के गुड़िया गैंगरेप मामले के दो दोषियों को 20 साल कैद की सजा सुनायी है. गुरूवार को कड़कड़डूमा कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नरेश कुमार मल्होत्रा ने सजा सुनाते हुए पीड़िता के परिवार को 11 लाख रुपये का मुआवजा भी दिए जाने का आदेश दिया है.

पीटीआई के मुताबिक पीड़ित पक्ष के वकील एच एस फूलका ने अदालत से दोनों दोषी प्रदीप और मनोज को उम्रकैद की सजा देने की मांग की थी. उनकी दलील थी कि पीड़िता की उम्र सिर्फ 5 साल थी, जब उसके साथ इन दोनों ने गैंगरेप किया था, इसलिए दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए.

गुरूवार को अदालत का फैसला आने के बाद एच एस फूलका ने मीडिया से बातचीत में कहा कि वह इस आदेश के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील करेंगे. उनके मुताबिक उनकी कोशिश होगी कि दोनों दोषियों को आजीवन कारावास की सजा हो.

15 अप्रैल 2013 को दिल्ली के गांधीनगर में पांच साल की बच्ची के साथ यह वीभत्स घटना हुई थी. बलात्कार के बाद दोषियों ने पीड़िता के निजी अंगों में कोई वस्तु घुसा दी थी और उसे मृत समझ कर एक कमरे में छोड़ दिया था. बच्ची को 40 घंटे बाद 17 अप्रैल को कमरे से निकाला गया था.