वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज बजट पेश कर रही हैं. अपने बजट भाषण के दौरान उन्होंने पंडित दीनानाथ कौल की कश्मीरी कविता पढ़ी. इस कविता का भावार्थ है : हमारा वतन खिलते हुए शालीमार बाग़ जैसा, हमारा वतन डल झील में खिलता हुआ कमल जैसा, नौजवानों के गर्म ख़ून जैसा, मेरा वतन, तेरा वतन, हमारा वतन, दुनिया का सबसे प्यारा वतन.

वित्त मंत्री ने कृषि और सिंचाई क्षेत्र के लिए सबसे ज्यादा आवंटन का प्रस्ताव किया है. यह आंकड़ा है 2.83 लाख करोड़ रु. निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारतीय रेलवे किसान रेल की विशेष पहल शुरू करेगा जिसमें दूध, मांस और मछली जैसे उत्पादों को लाने-ले जाने की व्यवस्था होगी. उनका यह भी कहना था कि सरकार उर्वरकों के संतुलित उपयोग को प्रोत्साहन देगी. सरकार 20 लाख किसानों के लिए एक योजना भी ला रही है जिससे वे सोलर पंप स्थापित कर सकते हैं.

निर्मला सीतारमण ने जल जीवन मिशन के लिए 11500 करोड़ रु के आवंटन का भी प्रस्ताव किया है. उन्होंने यह भी कहा कि देश के 100 ऐसे जिलों के लिए खास उपाय किए जाएंगे जो पानी की कमी से जूझ रहे हैं. निर्मला सीतारमण के मुताबिक साफ पानी सुनिश्चित करने के लिए सरकार 3.06 लाख करोड़ रु खर्च करेगी. इसके अलावा स्वच्छ भारत अभियान के लिए 12300 करोड़ रु की राशि रखी गई है. साफ हवा सुनिश्चित करने के उपायों के लिए 4000 करोड़ रु आवंटित करने की बात कही गई है.

वित्त मंत्री ने शिक्षा क्षेत्र के लिए 99300 करोड़ रु देने का प्रस्ताव किया है. निर्मला सीतारमण ने कहा कि नई शिक्षा नीति का ऐलान भी जल्द ही होगा जिसे उद्यमिता से जोड़ा जाएगा. उन्होंने एक नेशनल पुलिस यूनिवर्सिटी की स्थापना का भी ऐलान किया. वित्त मंत्री के मुताबिक एक नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी भी बनाई जाएगी.

निर्मला सीतारमण ने यह भी कहा कि नर्स और दूसरे पैरामेडिकल स्टाफ की पूरी दुनिया में भारी मांग है और सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि इसके लिए गुणवत्तापूर्ण ‘ब्रिज कोर्सेज’ दिए जाएं. उन्होंने मेडिकल में पीजी कोर्सों के लिए बड़े अस्पतालों को प्रोत्साहन देने की बात भी कही. बजट में स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 69 हजार करोड़ रु आवंटित करने का प्रस्ताव किया है. साथ ही निर्मला सीतारमण ने कहा कि इंजीनियरों को शहरी निकायों में इंटर्नशिप देने की व्यवस्था की जाएगी.

सरकार का जोर बुनियादी ढांचे पर भी है. वित्त मंत्री ने बिजली और अक्षय ऊर्जा के लिए 22,000 करोड़ रुपये देने का प्रस्ताव किया है. इसके अलावा नेशनल इन्फ्रा पाइपलाइन के लिए 1.03 लाख करोड़ रुपये रखे गए हैं. निर्मला सीतारमण ने 2024 तक 100 नए हवाई अड्डे बनाने का ऐलान भी किया है. उन्होंने यह भी कहा कि 2024 तक 6,000 किलोमीटर हाईवे बनेंगे. दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे और दो अन्य परियोजनाओं को साल 2023 तक पूरा कर लिया जाएगा. निर्मला सीतारमण ने पांच नई स्मार्टसिटीज विकसित करने का भी ऐलान किया है.

वित्त मंत्री ने पोषाहार कार्यक्रमों के लिए 35,600 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया है. उन्होंने कहा कि छह लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मोबाइल फोन दिए जाएंगे. साथ ही, 10 करोड़ घरों के पोषण का डेटा ऑनलाइन होगा.

निर्मला सीतारमण ने पर्यटन के लिए 2,500 करोड़ रुपये आवंटित करने का प्रस्ताव किया है. उन्होंने कहा कि देश में पांच पुरातात्विक स्थलों का विकास होगा और राखीगढ़ी, शिवसागर और हस्तिनापुर में म्यूजियम बनेंगे. इसके अलावा अनुसूचित जातियों और पिछड़े वर्गों के लिए 85,000 करोड़ रुपये देने का प्रस्ताव है.

निर्मला सीतारमण ने भारत नेट कार्यक्रम के लिए 6,000 करोड़ रुपये देने का प्रस्ताव किया है. उन्होंने कहा कि सरकार डेटा सेंटर पार्क बनाएगी. वित्त मंत्री का यह भी कहना था कि एक लाख पंचायतें भारत नेट से जुड़ेंगी.

वित्त मंत्री ने कहा कि धन अर्जन करने वालों का देश में सम्मान होगा. उन्होंने करदाताओं को उत्पीड़न से बचाने की बात भी कही. निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार एक टैक्सपेयर चार्टर बनाएगी.