वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज आम बजट पेश कर रही हैं. इस दौरान उन्होंने मध्य वर्ग को बड़ा तोहफा देते हुए आयकर यानी इन्कम टैक्स स्लैब में बड़ा बदलाव करने का ऐलान किया है. निर्मला सीतारमण ने कहा कि पांच लाख तक की आय टैक्स फ्री होगी. पांच से 7.5 लाख रु सालाना की करयोग्य आय पर 10 फीसदी टैक्स लगेगा. यानी पहले की तुलना में देखें तो इसे 10 फीसदी कम किया गया है.

इसके अलावा साढ़े सात लाख से 10 लाख रु की आय पर 15 फीसदी टैक्स देना होगा जो पहले की तुलना में पांच फीसदी कम है. 10 से 12.5 लाख रु की करयोग्य आय पर 20 फीसदी टैक्स देना होगा. पहले यह आंकड़ा 30 फीसदी था. 12.5 से 15 लाख रु की आय पर 25 फीसदी टैक्स लगेगा. यह आंकड़ा भी पहले 30 फीसदी था. 15 लाख रु से ज्यादा की आय पर पहले की ही तरह 30 फीसदी टैक्स देना होगा.

हालांकि इसमें एक पेंच भी है. वित्त मंत्री ने ऐलान किया है कि ये नए स्लैब वैकल्पिक हैं. अगर किसी टैक्स पेयर को इनका फायदा लेना है तो उसे पुरानी रियायतें छोड़नी होंगी. यानी नए स्लैब का लाभ उठाने के लिए बीमा, निवेश, घर का किराया, बच्चों की स्कूल फीस आदि जैसे मदों के एवज में इन्कम टैक्स में मिलने वाली छूट को छोड़ना होगा. पहले टैक्स भरते हुए इन सभी चीज़ों की जानकारी देने पर टैक्स में छूट मिलती थी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण के दौरान बैंकिंग व्यवस्था को सुधारने की भी बात कही. उन्होंने बताया कि इसके लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं जिनमें सख्त निगरानी भी शामिल है. वित्त मंत्री ने कहा कि अब बैंकों में जमा पांच लाख तक की रकम पूरी तरह सुरक्षित है. पहले यह आंकड़ा एक लाख रु था.