भारतीय विदेश मंत्रालय ने कोराना वायरस से प्रभावित चीन के शहर वुहान से भारतीयों को सुरक्षित निकालने के अभियान में चीन सरकार की तरफ से मिले सहयोग के लिए उसकी तारीफ की है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने जानकारी दी कि भारत ने दो उडा़नों के जरिये चीन से 640 भारतीयों और मालदीव के 7 नागरिकों को सुरक्षित निकाला है. एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह भी कहा कि अगर कुछ ऐसी स्थितियां बनती हैं तो भारत सरकार चीन में फंसे पाकिस्तानी छात्रों की भी मदद पर विचार कर सकती है.

विदेश मंत्रालय की प्रेस ब्रीफिंग के दौरान एक पत्रकार ने चीन के वुहान शहर में फंसे लोगों को लेकर पूछा, ‘वहां पर जो पाकिस्तानी स्टूडेंट फंसे हुए हैं, वे वीडियो में कह रहे थे कि मोदी है तो मुमकिन है, मोदी जिंदाबाद. वीडियो में छात्र यह कहते हुए भी नजर आ रहे थे कि अगर पाकिस्तान सरकार हमें नहीं ले जा रही है तो भारत सरकार हमारी मदद करे? क्या इस पर भारत सरकार कोई विचार कर रही है? इस सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘फिलहाल तो पाकिस्तान सरकार की तरफ से ऐसा कोई अनुरोध नहीं आया है. लेकिन अगर ऐसी स्थिति बनती है और हमारे पास संसाधन होते हैं तो हम इस पर जरूर विचार करेंगे.’

चीन में कोरोना वायरस के फैलने के बाद इस तरह के कई वीडियो सामने आए हैं, जिसमें वहां पाकिस्तानी छात्र कह रहे हैं कि भारत सरकार ने यहां से अपने छात्रों को निकाल लिया है, लेकिन पाकिस्तान की सरकार हमारे लिए ऐसी कोशिशें नहीं कर रही है.