दुनिया को एक नए कोरोना वायरस के बारे में आगाह करने वाले डॉक्टर की इसी वायरस से संक्रमण के चलते मौत हो गई है. ली वेनलियांग 34 साल के थे. उनकी मौत वुहान शहर के उसी अस्पताल में हुई जहां वे काम करते थे. ली वेनलियांग ने सोशल मीडिया पर डॉक्टरों के एक ग्रुप में यह जानकारी दी थी कि उन्हें सार्स जैसे एक नए कोरोना वायरस का पता चला है. सार्स ने 2002-03 के दौरान 800 से ज्यादा लोगों की जान ले ली थी.

हालांकि इसके बाद पुलिस ने ली को फटकार लगाई. उन पर आरोप लगाया गया कि वे अफवाह फैला रहे हैं. इसके लिए उन पर आपराधिक आरोप तय किए जाने की धमकी भी दी गई थी. यह जनवरी के पहले हफ्ते की बात है. तब से लेकर अब तक कोरोना वायरस 630 लोगों की जान ले चुका है. 30 हजार के करीब लोग इसकी चपेट में हैं. यह भारत और अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों में भी फैल चुका है. हांगकांग और फिलीपींस में इससे एक-एक शख्स की मौत भी हो चुकी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन इसे वैश्विक आपातस्थिति घोषित कर चुका है. ली वेनलियांग की मौत के बाद लोग अब सोशल मीडिया पर उनकी तारीफ कर रहे हैं और उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.