‘आमतौर पर प्रधानमंत्री का एक विशेष दर्जा होता है. प्रधानमंत्री खास तरीके से बर्ताव करता है. उसका एक विशेष कद होता है. लेकिन हमारे प्रधानमंत्री में ये चीजें नहीं हैं. वे प्रधानमंत्री जैसा बर्ताव नहीं करते हैं.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस नेता

राहुल गांधी ने यह टिप्पणी लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण को लेकर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन पर की. इस दौरान प्रधानमंत्री ने राहुल गांधी को ट्यूबलाइट कहा था. कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि संसद में उन्हें बोलने नहीं दिया जा रहा है.

‘हमें डंडे और लाठी जैसे बयान देने बचना चाहिए.’

— तेजस्वी यादव, आरजेडी प्रमुख

तेजस्वी यादव ने यह बात कांग्रेस नेता राहुल गांधी को नसीहत देते हुए कही जिन्होंने एक चुनावी रैली में विवादित बयान देते हुए कहा था कि छह महीने बाद युवा रोजगार को लेकर नरेंद्र मोदी को डंडे मारेंगे. तेजस्वी यादव ने कहा कि राहुल गांधी को चुनाव परिणामों का इंतजार करना चाहिए. उनका कहना था, ‘सभी जानते हैं कि झारखंड में किसे डंडे का सामना करना पड़ा था.’


‘कभी-कभी लोग मुझे डंडा मारने की बातें करते हैं लेकिन जिस मोदी को इतनी बड़ी मात्रा में माता-बहनों का सुरक्षा कवच मिला हो उस पर कितने भी डंडे गिर जाएं, उसे कुछ नहीं हो सकता.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह टिप्पणी असम के कोकराझार में एक रैली के दौरान राहुल गांधी के बयान के संदर्भ में की. उन्होंने यह भी कहा कि देशविरोधी ताकतें नए नागरिकता कानून को लेकर भ्रम फैला रही हैं और असम के लोगों को किसी भी तरह से डरने की जरूरत नहीं है. बीते दिसंबर में इस कानून के विरोध में राज्य में हुई व्यापक हिंसा के बाद प्रधानमंत्री का यह पहला असम दौरा था.