नए नागरिकता कानून पर संसद में चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण का एक शब्द सदन की कार्यवाही के रिकॉर्ड से हटा दिया गया है. पीटीआई के मुताबिक उन्होंने बजट सत्र की शुरुआत में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान गुरुवार को राज्य सभा में टिप्पणी की थी. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू के निर्देश पर उनकी इस टिप्पणी से एक शब्द को हटाया गया है.

राज्यसभा सचिवालय की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई है. इसमें कहा गया है, ‘सभापति ने छह फरवरी को राज्यसभा में शाम 6.20 से 6.30 बजे के आसपास की कार्यवाही के कुछ हिस्सों को हटाने का निर्देश दिया है.’ इस चर्चा के दौरान विपक्ष के नेता और कांग्रेस सांसद गु़लाम नबी आज़ाद के एक शब्द को भी हटवाया गया है जो उन्होंने प्रधानमंत्री के भाषण के बाद अपने बयान में कहा था.

सदन की कार्यवाही से अक्सर उन टिप्पणियों को हटा दिया जाता है जिन्हें आधिकारिक रिकॉर्ड के योग्य नहीं माना जाता. एम वेंकैया नायूड ऐसा कई बार कर चुके हैं मगर प्रधानमंत्री के शब्द को हटाना एक दुर्लभ घटना है. हालाकि यह नहीं बताया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुलाम नबी आजाद ने क्या कहा था जिसे रिकॉर्ड से हटाया गया.