‘अर्थव्यवस्था का इलाज अनाड़ी डॉक्टर कर रहे हैं.’

— पी चिदंबरम, कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री

पी चिदंबरम ने यह बात राज्यसभा में 2020-21 के आम बजट पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कही. उन्होंने कहा कि बढ़ती बेरोजगारी और घटते उपभोग की वजह से आज देश गरीब हो रहा है. पूर्व वित्त मंत्री का यह भी कहना था कि अर्थव्यवस्था में मांग की कमी है और निवेश इसकी राह देख रहा है. पी चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार ने जिस भी अनुभवी सक्षम डॉक्टर की पहचान की है, सभी देश छोड़कर चले गए. उन्होंने ऐसे लोगों की सूची में रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम और नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया का नाम गिनाया.

‘ये लोग दैत्यों के वंशज हैं और वही लोग बुर्का पहन सकते हैं.’  

— रघुराज सिंह, योगी आदित्यनाथ सरकार में राज्य मंत्री

रघुराज सिंह ने यह टिप्पणी मुस्लिम महिलाओं पर की. उनका कहना था कि भारत में बुर्के पर रोक लगनी चाहिए. विवादित बयानों से रघुराज सिंह का उनका पुराना नाता है. इससे पहले उन्होंने खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘जो लोग पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं, उन लोगों को जिंदा दफना दिया जाएगा.’ वे लगातार अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का नाम बदलने की भी मांग कर रहे हैं.


‘हम कोरोना वायरस के खिलाफ चीन की लड़ाई में भारत के समर्थन के प्रति आभार जताते हैं और सराहना करते हैं.’  

— गेग शुआंग, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता

चीनी विदेश मंत्रालय की यह प्रतिक्रिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस से लड़ने में मदद की भारत की पेशकश पर आई है. प्रधानमंत्री ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को चिट्ठी लिखकर यह पेशकश की थी. चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 900 से ऊपर जा चुका है. 40 हजार से ज्यादा लोग इससे पीड़ित हैं.