दिल्ली में नए नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा में पांच लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए. मरने वालों में एक पुलिसकर्मी शामिल है. यह हिंसा दिल्ली के मौजपुर और भजनपुरा इलाकों में हुई. भीड़ ने कई गाड़ियों और एक पेट्रोल पंप को आग लगा दी. इन इलाकों में स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ताजा हालात पर चिंता जताई है. उन्होंने कहा कि हिंसा से कोई समाधान नहीं निकल सकता. अरविंद केजरीवाल का यह भी कहना था कि उन्होंने इस मसले पर उपराज्यपाल अनिल बैजल से बात की है. मुख्यमंत्री के मुताबिक उपराज्यपाल ने उन्हें आश्वासन दिया है कि प्रभावित इलाकों में और पुलिस बल की तैनाती की जाएगी.

उधर, केंद्र सरकार ने कहा है कि हिंसा की घटनाओं को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि विरोध करना लोगों का संवैधानिक अधिकार है लेकिन इसकी आड़ में अगर हिंसा हुई तो इससे सख्ती से निपटा जाएगा. उन्होंने इस हिंसा की टाइमिंग पर भी सवाल उठाए. यह हिंसा ऐसे समय पर हुई है जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत दौरे पर आए हुए हैं.