समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी का मुद्दा लोकसभा में उठाया है. मुलायम ने सवाल किया कि फारूक अब्दुल्ला को हिरासत से कब रिहा किया जाएगा.

लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान मुलायम सिंह यादव ने पूछा, ‘फारूक अब्दुल्ला सदन में कब वापसी करेंगे.’ उन्होंने कहा कि ‘हमारे सहयोगी हमारे साथ ही सदन में बैठते थे.’ हालांकि, मुलायम के इस सवाल पर स्पीकर ओम बिरला ने ध्यान नहीं दिया. उन्होंने सदन की कार्यवाही को आगे बढ़ा दिया.

फारूक अब्दुल्ला को पहली बार पांच अगस्त, 2019 को कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद नजरबंद किया गया. उनके साथ ही उनके बेटे उमर अब्दुल्ला और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती को भी नजरबंद किया था. लेकिन, बीते हफ्ते ही गुरुवार को जन सुरक्षा कानून के तहत फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी नजरबंदी बढ़ा दी गई है.