विधानसभा चुनाव में एक बार फिर शून्य सीटें हासिल करने के बाद सुभाष चोपड़ा ने दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है. हार की जिम्मेदारी लेते हुए सुभाष चोपड़ा ने ये इस्तीफा दिया है. विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी ने 62 और भाजपा ने 8 सीटें जीती हैं. कांग्रेस को लगातार दूसरी बार बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा है, 70 सीटों में से एक भी सीट कांग्रेस जीतने में नाकाम रही.

सुभाष चोपड़ा ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है. अब आलाकमान को मेरे इस्तीफे पर निर्णय लेना है.’

सुभाष चोपड़ा को पिछले साल अक्टूबर में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. 72 वर्षीय चोपड़ा पहले भी 1998 से 2003 तक दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे हैं. वह 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार कालकाजी विधानसभा सीट से विधायक भी रहे हैं. उन्होंने जून 2003 से दिसंबर 2003 तक दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष की भूमिका निभाई.