पाकिस्तान की एक अदालत ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उत-दावा के प्रमुख हाफिज सईद को पांच साल की सजा सुनाई है. हाफिज सईद को यह सजा टेरर फंडिंग के लिए दोषी पाए जाने की वजह से सुनाई गई है.

हाफिज सईद के खिलाफ पाकिस्तान के लाहौर में आतंकवाद रोधी अदालत में आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के दो मामले चल रहे था. अदालत को इस बारे में शनिवार को ही अपना फैसला सुनाना था. लेकिन, हाफिज सईद के अनुरोध पर फैसला मंगलवार तक के लिए टाल दिया गया था. हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के दो मामले लाहौर और गुजरांवाला में पंजाब पुलिस ने दर्ज किए थे.

हाफिज सईद फिलहाल जमात-उद-दावा नाम के संगठन का मुखिया है. माना जाता है कि जमात-दावा की आड़ में लश्कर-ए-तैयबा की आतंकवादियों गतिविधियों का संचालन किया जाता है. 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में भी हाफिज सईद और उसके संगठनों की भूमिका सामने आई है. अमेरिका ने भी 2012 से हाफिज सईद को ग्लोबल आतंकी घोषित कर रखा है.