द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टेरी) के पूर्व प्रमुख और पर्यावरणविद आरके पचौरी का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है. 79 साल के पचौरी का काफी दिनों से दिल्ली के ‘एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट’ में इलाज चल रहा था. पीटीआई के मुताबिक बीते मंगलवार को हालत बिगड़ने पर उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था.

आरके पचौरी को पिछले साल जुलाई में मैक्सिको में दिल का दौरा पड़ा था. इसके बाद से ही उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. कुछ समय पहले ही उनकी एस्कॉर्ट्स के इसी अस्पताल में ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी.

टेरी ने आरके पचौरी ने निधन पर दुख व्यक्त किया है. संस्थान ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि पूरा टेरी परिवार दुख की इस घड़ी में डॉ. पचौरी के परिवार के साथ खड़ा है. टेरी के महानिदेशक अजय माथुर ने पचौरी के निधन पर गहरा शोक जताया है. उन्होंने कहा, ‘टेरी आज जो कुछ भी है, वह आरके पचौरी की बदौलत है. पर्यावरण के क्षेत्र में उन्होंने अपनी महती भूमिका निभाई.’

पर्यावरण संरक्षण में इंटरगवर्मेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की बड़ी भूमिका है जिसमें टेरी के योगदान की सराहना होती है. आरके पचौरी काफी समय तक आईपीसीसी के अध्यक्ष रहे. उनके कार्यकाल के दौरान ही इस संस्थान को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.