शाहीनबाग में सीएए के खिलाफ धरना दे रहे प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि रविवार को वे इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे. यह दावा गृहमंत्री अमित शाह के उस बयान के बाद किया जा रहा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह किसी से भी इस कानून पर बात करने को तैयार हैं. लेकिन, शनिवार दिन भर ऐसी चर्चाओं के बाद गृह मंत्रालय ने कहा है कि गृह मंत्री के साथ ऐसी कोई मीटिंग तय नहीं है.

शनिवार को शाहीनबाग की कई महिला प्रदर्शनकारियों ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह के शाहीनबाग पर मुलाकात के न्योते को स्वीकार कर लिया है और रविवार दोपहर 2 बजे उनसे मुलाकात के लिए जाया जाएगा. प्रदर्शनकारियों का कहना था, ‘अमित शाह जी ने पूरे देश को न्योता देते हुए कहा था कि कोई भी उनसे मिलकर नागरिकता संशोधन कानून से जुड़े मसले पर चर्चा कर सकता है. इसलिए हम उनसे मिलने जाएंगे’. खबरों के मुताबिक, शाहीनबाग की प्रदर्शनकारियों की एक मार्च के रूप में गृह मंत्री अमित शाह के आवास तक जाने की योजना है. लेकिन, शाम को गृह मंत्रालय ने ऐसी किसी भी मुलाकात की संभावना को खारिज कर दिया.

दरअसल, गृहमंत्री अमित शाह ने एक टीवी चैनल से बातचीत में शाहीनबाग में सीएए-एनआरसी को लेकर चल रहे प्रदर्शन से जुड़े सवाल पर कहा था कि अगले तीन दिन में सीएए को लेकर कोई भी उनसे आकर मुलाकात कर सकता है. उन्होंने कहा था कि अगर कोई सीएए पर चर्चा करना चाहता है तो उनके कार्यालय से समय ले और उनसे बात करे.