जामिया मिलिया इस्लामिया में 15 दिसंबर को हुई बर्बरता से जुड़ा का एक वीडियो सामने आया है. ये वीडियो जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी (जेसीसी) ने जारी किया है. इसमें पुलिसकर्मी लाइब्रेरी में मौजूद छात्रों पर डंडे बरसाते नजर आ रहे हैं.

जेसीसी का दावा है कि 15 दिसंबर को जब नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ आंदोलन हुआ तो उस दौरान पुलिस ने जामिया के अंदर पढ़ रहे छात्रों पर लाठियां बरसाईं. जो वीडियो जारी किया गया है उसमें छात्र लाइब्रेरी में पढ़ते नजर आ रहे हैं और उनके हाथों में किताबें भी हैं.

जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने इस वीडियो पर कहा है कि सीसीटीवी फुटेज से साफ हो जाता है कि पुलिस राज्य प्रायोजित हिंसा को अंजाम दे रही है. इस वीडियो में दिख रहा है कि जब जामिया के छात्र लाइब्रेरी में परीक्षा की तैयारी कर रहे थे तभी पुलिस ने उन पर बर्बरता की. इस वीडियो को लेकर दिल्ली पुलिस का कहना है कि इसमें कुछ नकाबपोश लोग भी नजर आ रहे हैं.

जामिया मिलिया इस्लामिया का जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी से कोई संबंध नहीं है. यह कमेटी नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर(एनआरसी) के खिलाफ जारी आंदोलनों का नेतृत्व कर रही है. इस कमेटी में जामिया के कई पूर्व छात्र शामिल हैं.