दिल्ली के रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. केजरीवाल के साथ उनकी सरकार के छह मंत्रियों ने भी शपथ ली है. अरविंद केजरीवाल ने अपनी पिछली सरकार की तरह इस बार भी मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन और राजेंद्र पाल गौतम को कैबिनेट मंत्री बनाया है.

रविवार को हुए शपथ ग्रहण समारोह में ख़ास बात ये थी कि इसमें किसी दूसरे राज्य के मख्यमंत्री या दूसरी पार्टी के नेताओं को बुलाने के बजाय दिल्ली के निर्माता के नाम से कई वर्गों के 50 मेहमानों को आमंत्रित किया गया था. ये सभी मंच पर मुख्यमंत्री के साथ मौजूद थे.

आम आदमी पार्टी के नेताओं के मुताबिक ये सभी ऐसे नायक हैं, जिन्होंने अपने दमखम से दिल्ली की तस्वीर बदलने का बीड़ा उठाया है. इनमें शिक्षक, बस मार्शल, सिग्नेचर ब्रिज के आर्किटेक्ट और उन अग्निशमन कर्मियों के परिवार शामिल हैं, जिन्होंने अपनी जान गंवाई.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शपथ ग्रहण के बाद समारोह में आए लोगों को संबोधित भी किया. अपने संबोधन में उन्होंने कहा, ‘दिल्ली में नई किस्म की राजनीति शुरू हुई है. दिल्ली मॉडल अब पूरे देश में दिख रहा है. चुनाव में जिन्होंने हमें बुरा कहा मैंने उनको माफ किया. अब केंद्र सरकार के साथ मिलकर जनता के लिए काम करूंगा.’

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने यह भी कहा, ‘मैंने शपथ ग्रहण समारोह के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निमंत्रण भेजा था. वह नहीं आ सके, शायद वह किसी अन्य कार्यक्रम में व्यस्त हैं. मैं दिल्ली को विकसित करने और इसे आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री और केंद्रीय सरकार से आशीर्वाद लेना चाहता हूं.’