तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में आज नए नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में एक विशाल रैली हो रही है. प्रदर्शनकारियों की मांग है कि राज्य विधानसभा इस कानून के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित करे. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस रैली में बड़ी संख्या में महिलाएं भी हैं. इसके चलते कई इलाकों में भारी ट्रैफिक जाम की स्थिति हो गई है.

इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट ने इस रैली के लिए अनुमति देने पर अंतरिम रोक लगा दी थी. अदालत ने यह रोक उस याचिका पर सुनवाई करते हुए लगाई थी जिसमें पुलिस को यह आदेश देने का अनुरोध किया गया था कि प्रदर्शनकारियों को सीएए के खिलाफ रैली करने से रोका जाए. मामले की अगली सुनवाई 11 मार्च को होनी है.

इससे पहले तमिलनाडु में विपक्षी डीएमके ने विधानसभा में सीएए के खिलाफ प्रस्ताव लाने की कोशिश की थी. लेकिन विधानसभा अध्यक्ष पी धनपाल ने उसे इसकी इजाजत नहीं दी. तमिलनाडु में राजधानी चेन्नई सहित कई दूसरे इलाकों में सीएए के खिलाफ धरने-प्रदर्शन हो रहे हैं. 14 फरवरी को चेन्नई के वाशरमेनपेट में कुछ प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी कर दिया था.

सीएए में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से भारत आने वाले गैर मुस्लिम शरणार्थियों को आसानी से नागरिकता देने का प्रावधान है. लेकिन केरल सहित राज्य राज्य इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित कर चुके हैं. उनका कहना है कि यह कानून संविधान के खिलाफ है.