अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा से जुड़ी गहमागहमी के बीच ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी की तरफ से एक अहम बयान आया है. इसमें कहा गया है कि इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत में अमेरिकी राष्ट्रपति धार्मिक आजादी का मुद्दा भी उठाएंगे. खबरों के मुताबिक इस अधिकारी ने कहा, ‘धार्मिक आजादी का मुद्दा हमारे लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है.’ अधिकारी से पूछा गया था कि क्या राष्ट्रपति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भारत के नए नागरिकता कानून (सीएए) या राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) पर भी बात करेंगे. इस अधिकारी यह भी कहना था कि दुनिया भारत से यह उम्मीद रखती है कि वह अपनी लोकतांत्रिक परंपराओं और धार्मिक अल्पसंख्यकों के प्रति सम्मान को आगे भी जारी रखेगा.

डोनाल्ड ट्रंप 24 फरवरी को भारत आ रहे हैं. उनकी इस दो दिवसीय यात्रा के दौरान दोनों देशों के व्यापार से जुड़े किसी समझौते को लेकर कयास जारी हैं. डोनाल्ड ट्रंप ने हाल में कहा था कि व्यापार शुल्क लगाने के मामले में भारत का बर्ताव उनके साथ बहुत बुरा रहा है. दरअसल राजनीतिक और रणनीतिक मामलों में करीबी साझीदार रहे भारत और अमेरिका ने हाल के सालों में एक दूसरे के खिलाफ व्यापार शुल्क लगाए हैं. बीते दिनों विदेश मंत्रालय का कहना था कि कुछ समय से दोनों देशों के अधिकारी इस दिशा में बातचीत कर रहे हैं कि कोई ऐसा समझौता हो जाए जिसमें दोनों देशों के लिए एक संतुलन हो. हालांकि अभी तक इस पर कोई सहमति नहीं बन सकी है.