चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी है. अब तक इससे मरने वालों का आंकड़ा 2200 के पार जा चुका है जबकि 65 हजार से ज्यादा इससे संक्रमित हैं. इस बीच सूत्रों के हवाले से चल रही खबरों में कहा जा रहा है कि चीन बचाव कार्य के लिए लगाए गए भारतीय वायु सेना के एक विमान को आने की मंजूरी देने में लगातार टालमटोल कर रहा है. इस विमान को मेडिकल सप्लाई की एक खेप लेकर कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित चीन के वुहान शहर जाना है और वापसी में कई भारतीयों को लेकर लौटना है. लेकिन सूत्रों के मुताबिक इसी मकसद से आ रहे दूसरे देशों के विमान खूब आ-जा रहे हैं जबिक भारतीय वायु सेना के विमान को मंजूरी नहीं दी जा रही है. हालांकि चीन ने इससे इनकार किया है.

17 फरवरी को भारत ने ऐलान किया था कि वह वायु सेना के सबसे बड़े जहाज म-17 ग्लोबमास्टर को मेडिकल सप्लाई की एक खेप के साथ वुहान भेजेगा जो वहां फंसे अपने और पड़ोसी देशों के नागरिकों को वापस लाएगा. भारत के 647 और मालदीव के सात नागरिकों को एयर इंडिया की दो विशेष फ्लाइट्स के जरिये इस महीने की शुरुआत में वापस लाया जा चुका है. बाकी बचे भारतीयों को लाने में देरी होने के चलते उनके परिजन काफी परेशान हैं.