दिल्ली की तिहाड़ जेल का प्रशासन निर्भया मामले के चारों दोषियों को फांसी देने की तैयारियों में जुट गया है. उनके डेथ वारंट के मुताबिक उन्हें तीन मार्च की सुबह छह बजे फांसी होनी है. तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने दोषियों को एक नोटिस भेजकर पूछा है कि क्या वे आखिरी बार अपने परिवार से मिलना चाहते हैं और अगर हां तो कब.

एएनआई के मुताबिक जेल प्रशासन के नोटिस के जवाब में दो दोषियों - मुकेश और पवन को बताया गया कि वे एक फरवरी को डेथ वारंट जारी होने से पहले ही अपने परिजनों से मिल चुके हैं. अब अक्षय ठाकुर और विनय शर्मा से पूछा गया है कि वे कब अपने घरवालों से मिलना चाहते हैं. फांसी देने से पहले दोषी को परिजनों से आखिरी मुलाकात का मौका दिया जाता है. इसके अलावा उनसे उनकी आखिरी इच्छा भी पूछी जाती है. इससे पहले दया याचिका जैसे कानूनी प्रावधानों के चलते दोषियों की फांसी दो बार टल चुकी है.

16 दिसंबर, 2012 की रात को दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार और बर्बरता की गयी थी. उसी महीने सिंगापुर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी थी.