शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों से बातचीत के बाद एक सड़क खोलने का फैसला किया है. खबरों के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने फैसला किया है कि वे जामिया से नोएडा जाने वाली सड़क के एक तरफ से हट जाएंगे.

शाहीनबाग में सीएए-एनआरसी के विरोध में पिछले दो महीने से ज्यादा समय से धरना चल रहा है. प्रदर्शन के चलते शाहीनबाग से जाने वाले कई रास्ते बंद हैं. अदालत में मामला पहुंचने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इसको लेकर दो वरिष्ठ अधिवक्ताओं को वार्ताकार के रूप में नियुक्त किया था. सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े पिछले चार दिनों से प्रदर्शनकारियों से बातचीत कर रहे थे. शुरुआत में प्रदर्शनकारी रास्ता खोलने के लिए तैयार नहीं थे. लेकिन, शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने सड़क नंबर नौ खोलने का फैसला किया है.

इस बारे में प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन्होंने जामिया से नोएडा जाने वाली सड़क को एक साइड से खोलने का फैसला किया है, लेकिन सीएए-एनआरसी के खिलाफ उनका प्रदर्शन जारी रहेगा. सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों के सामने प्रस्ताव रखा था कि उन्हें धरने के लिए कोई दूसरी जगह दी जा सकती है. लेकिन, प्रदर्शनकारियों ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था.