‘जो लोग आम लोगों को भड़का रहे हैं उन्हें चिन्हित किया जाए.’  

— मनोज तिवारी, दिल्ली भाजपा के प्रमुख

मनोज तिवारी ने यह बात दिल्ली में हो रही हिंसा पर कही जिसमें अब तक 11 लोग मारे जा चुके हैं. दिल्ली भाजपा के मुखिया ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में सभी लोगों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वे शांति के लिए कोशिश करें. मनोज तिवारी के मुताबिक कोई भी नेता ऐसी बात न करे, जिससे भ्रम पैदा हो और लोगों में गलत संदेश जाए.


‘जनता असंवेदनशील और अदूरदर्शी नेताओं को सत्ता में पहुंचाने की कीमत चुका रही है.’  

— पी चिदंबरम, पूर्व केंद्रीय मंत्री

पी चिदंबरम ने यह बात दिल्ली में हुई हिंसा की निंदा करते हुए कही. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का यह भी कहना था कि सरकार को इस मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने तक सीएए को रोक देना चाहिए और सीएए-विरोधी प्रदर्शनकारियों की बात सुननी चाहिए.


‘कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए मैं जो कुछ भी कर सकता हूं मैं करूंगा.’ 

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिकी राष्ट्रपति

डोनाल्ड ट्रंप ने यह बात आज अपनी भारत यात्रा के दूसरे दिन कही. उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान, दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के साथ उनका मजबूत रिश्ता है. डोनाल्ड ट्रंप पहले भी कई बार कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता की पेशकश कर चुके हैं, लेकिन भारत ने हर बार इसे अपना अंदरूनी मामला बताकर खारिज किया है.