‘शांति और सहिष्णुता हमारे मूल्यों के केंद्र में रहे हैं.’ 

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात दिल्ली के लोगों से शांति की अपील करते हुए कही. राजधानी के अलग-अलग इलाकों में हो रही हिंसा में बीते तीन दिन में 24 लोगों की मौत हो चुकी है. नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि उन्होंने हालात की विस्तृत समीक्षा की है. प्रधानमंत्री के मुताबिक पुलिस और दूसरी एजेंसियां शांति और सामान्य हालात की बहाली में लगी हुई हैं

‘भारत में धार्मिक असहिष्णुता में वृद्धि भयावह है.’  

— प्रमिला जयपाल, अमेरिकी सांसद

अमेरिकी सांसद का यह बयान दिल्ली में हो रही हिंसा पर आया. सीएए की आलोचना करते हुए भारतीय मूल की प्रमिला जयपाल ने कहा कि कि लोकतांत्रिक देशों को विभाजन और भेदभाव बर्दाश्त नहीं करना चाहिए और ऐसे कानून को बढ़ावा भी नहीं देना चाहिए जो धार्मिक स्वतंत्रता को कमजोर करता हो.


‘कानून का पालन करने वाले किसी भी नागरिक को कोई भी किसी भी तरह की हानि नहीं पहुंचा पाएगा.’  

— अजीत डोभाल, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

अजीत डोभाल ने यह बात एक समाचार चैनल से बातचीत में कही. वे आज दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों के दौरे पर गए थे जहां उन्होंने हालात का जायजा लिया. अजीत डोभाल ने लोगों को आश्वस्त करने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि अब हालात पूरी तरह से काबू में हैं.