दिल्ली में हुई हिंसा के मद्देजनर आलोचना से जूझ रही दिल्ली पुलिस की कमान अब एसएन श्रीवास्तव को दी गई है. उन्हें तीन दिन पहले ही विशेष आयुक्त (कानून-व्यवस्था) बनाया गया था. आज उन्हें पुलिस आयुक्त का अतिरिक्त प्रभार भी दे दिया गया है. एसएन श्रीवास्तव अमूल्य पटनायक की जगह लेंगे जो कल रिटायर हो रहे हैं.

दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में अब तक 42 लोगों की जान जा चुकी है. 200 से ज्यादा लोग घायल हैं. हिंसा की जांच के लिए पुलिस की अपराध शाखा यानी क्राइम ब्रांच के दो विशेष जांच दल (एसआईटी) बनाए गए हैं. इन्होंने अब तक 48 एफआईआर दर्ज की हैं और 500 से ज्यादा लोगों को या तो गिरफ्तार किया है या फिर हिरासत में लिया है. प्रभावित इलाकों में शांति बहाल करने के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बलों के 7000 से ज्यादा जवानों की तैनाती की गई है.

इस बीच, दंगों के दौरान आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के लिए आम आदमी पार्टी के पार्षद रहे ताहिर हुसैन पर मुकदमा दर्ज किया गया है. आप ने उन्हें निलंबित कर दिया है. एसएन श्रीवास्तव ने इसे एक बर्बर घटना बताया है. उनका यह भी कहना था कि पुलिस के लिए सभी केस उतने ही महत्वपूर्ण हैं.