दिल्ली में हुई हिंसा के मद्देनजर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. इसमें हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी, उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी, पूर्व विधायक वारिस पठान और अन्य को भी आरोपित बनाया गया है. इन सभी नेताओं पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाते हुए इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की गई है. अदालत ने इस पर केंद्र, दिल्ली सरकार और पुलिस से जवाब मांगा है. याचिका में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आप के विधायक अमानतुल्ला खान के खिलाफ भी मामला दर्ज किए जाने की मांग की गई है. याचिकाकर्ता का यह भी कहना है कि इस मामले की पड़ताल के लिए एक विशेष जांच दल बनाया जाए.

दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में अब तक 42 लोगों की जान जा चुकी है. 200 से ज्यादा लोग घायल हैं. 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हिंसा की जांच के लिए पुलिस की अपराध शाखा यानी क्राइम ब्रांच के दो विशेष जांच दल (एसआईटी) बनाए गए हैं. इन्होंने अब तक 48 एफआईआर दर्ज की हैं और 500 से ज्यादा लोगों को या तो गिरफ्तार किया है या फिर हिरासत में लिया है. प्रभावित इलाकों में शांति बहाल करने के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बलों के 7000 से ज्यादा जवानों की तैनाती की गई है.