‘दुगुनी सजा का मतलब अब ताहिर के साथ-साथ उसके आका को भी कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए.’  

— मनोज तिवारी, दिल्ली भाजपा के मुखिया

मनोज तिवारी का यह बयान आप पार्षद रहे ताहिर हुसैन और पार्टी मुखिया अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए आया. उन्होंने कहा कि निर्धारित समय सीमा में इस केस के आरोपितों और साज़िशकर्ताओं को फांसी की सज़ा मिलनी चाहिए. दिल्ली में हुई हिंसा के मद्देनजर ताहिर हुसैन पर हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ है. इसके बाद आप ने उन्हें निलंबित कर दिया था. अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि अगर उनकी पार्टी का कोई नेता दंगों में लिप्त है तो उसे दोगुनी सजा मिलनी चाहिए.

‘सभी मामले अहम हैं.’

— एसएन श्रीवास्तव, दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर

एसएन श्रीवास्तव ने यह बात दिल्ली हिंसा से जुड़े मामलों को लेकर कही है. दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई इस हिंसा की जांच के लिए पुलिस की अपराध शाखा यानी क्राइम ब्रांच के दो विशेष जांच दल (एसआईटी) बनाए गए हैं. इन्होंने अब तक 48 एफआईआर दर्ज की हैं और 500 से ज्यादा लोगों को या तो गिरफ्तार किया है या फिर हिरासत में लिया है


‘अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो?’  

— अमित शाह, गृहमंत्री

केंद्रीय गृहमंत्री ने यह बात ओडिशा की राजधानी भुवनेश्‍वर में एक सभा को संबोधित करते हुए विपक्ष पर हमला बोलते हुए कही. अमित शाह ने सीएए के मुद्दे पर देश भर में चल रहे विरोध पर कहा, ‘कांग्रेस, ममता दीदी, सपा, बसपा ये सारे लोग सीएए का विरोध कर रहे हैं. ये कह रहे हैं कि इससे अल्पसंख्यकों के नागरिक अधिकार चले जाएंगे.’ उन्होंने आगे कहा कि यह सरासर झूठ है.