‘फांसी का बार-बार टलना हमारे सिस्‍टम की नाकामी को दिखाता है.’  

— आशा देवी, निर्भया की मां

आशा देवी का यह बयान निर्भया मामले के दोषियों की फांसी तीसरी बार टलने के बाद आया. मामले के एक दोषी ने राष्ट्रपति के पास आज ही दया याचिका भेजी है जिसके चलते यह फैसला हुआ. निर्भया की मां ने कहा कि पूरा सिस्टम अपराधियों को संरक्षण देता है.

‘जब दिल्ली हिंसा से सहमी हुई थी, तब केंद्र सरकार सो रही थी.’  

— गुलाम नबी आजाद, राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष

गुलाम नबी आजाद की यह प्रतिक्रिया राज्यसभा में दिल्ली हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए आई. इस हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा 46 तक पहुंच गया है. संसद के दोनों सदनों में इस मुद्दे को लेकर खूब हंगामा हुआ. इसके चलते दोनों सदनों की कार्रवाई कल तक के लिए स्थगित करनी पड़ी.


‘यह दिल्ली नहीं है.’

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात गृहमंत्री अमित शाह की रैली में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर कही. उन्होंने कहा कि कोलकाता में गोली मारो जैसे नारों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. ममता बनर्जी का यह भी कहना था कि भाजपा पश्चिम बंगाल समेत पूरे देश में ‘दंगों का गुजरात मॉडल’ लागू करने की कोशिश कर रही है.