विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित किये जाने के बाद भारत सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले के तहत देश में विदेश से आने वाले लोगों पर 15 अप्रैल तक के लिए पाबंदी लगा दी गयी है. भारत सरकार ने सभी वीजा तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिए हैं. अधिकारियों के मुताबिक इस निर्णय पर 13 मार्च से अमल शुरू होगा.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को यह आदेश जारी किया है. अपने आदेश में मंत्रालय ने कहा है कि विदेशी राजनियकों, आधिकारियों, सयुंक्त राष्ट्र संघ और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के कर्मचारियों को इस आदेश से छूट मिलेगी. मंत्रालय ने कहा, ‘यह आदेश 13 मार्च 2020 से भारत से जाने वाली फ्लाइटों के समय से लागू होगा. इस दौरान अगर कोई विदेशी भारत की यात्रा करना चाहता है तो उसे अपने नजदीकी भारतीय मिशन से संपर्क करना होगा.’

इससे पहले बुधवार को डब्लूएचओ ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया. कोरोना को महामारी घोषित करते हुए डब्लूएचओ ने कहा कि इस वायरस से अब तक विश्व भर में 4300 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, इसलिए इसे महामारी कहा जा सकता है.

कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने के संबंध में डब्लूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदनोम ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘डब्लूएचओ इस घातक वायरस के प्रकोप का आकलन कर रहा है. हम इसके खतरनाक तरीके से फैलने और निष्क्रियता के खतरनाक स्तर दोनों से चिंतित हैं. इसलिए हमने आकलन किया है कि कोविड-19 को महामारी के रूप में पहचाना जा सकता है.’