कोरोना वायरस से बढ़ती मौतों के बीच डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा कदम, यूरोप से अमेरिका आने वालों पर रोक लगाई

कोरोना वायरस से अमेरिका में लगातार बढ़ रही मौतों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बड़ा फैसला किया है. उन्होंने यूरोप से अमेरिका आने वालों पर एक महीने के लिए रोक लगा दी है. हालांकि इस प्रतिबंध में ब्रिटेन शामिल नहीं है. अमेरिका में अब तक कोरोना वायरस के 1135 मामले सामने आए हैं. इसकी वजह से 38 मौतें हो चुकी हैं. हॉलीवुड के मशहूर अभिनेता टॉम हैंक्स और उनकी पत्नी भी कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आ गए हैं. इस वायरस के चलते पूरी दुनिया में अब तक 4,292 मौतें हो चुकी हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन इसे महामारी घोषित कर चुका है.

देश में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 73 पर पहुंची, सरकार ने कहा- आईपीएल के मैच खाली स्टेडियम में होंगे

भारत में कोरोना वायरस के 13 नये मामले सामने आने के बाद इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 73 हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को ये जानकारी दी. 13 नये मामलों में से नौ महाराष्ट्र से हैं. उधर, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आज लोकसभा में कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए जो भी जरूरी है वो किया जा रहा है. उन्होंने ये भी कहा कि इस संकट के चलते इटली, ईरान और दूसरे कई देशों में फंसे भारतीय नागरिकों को निकालने के प्रयास जारी हैं. कोरोना वायरस का आईपीएल पर पड़ना भी तय माना जा रहा है. सरकार ने साफ कर दिया है कि इसी महीने शुरू हो रहे इस आयोजन को अगर टाला नहीं जा सकता तो मैचों को खाली स्टेडियम में कराना होगा.

लखनऊ में सीएए विरोधियों के पोस्टर लगाने पर सुप्रीम कोर्ट का योगी सरकार से तीखा सवाल, कहा- किस कानून ने आपको ये हक दिया

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हुई हिंसा के आरोपितों के पोस्टर लगाने का मामला सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी बेंच को भेज दिया है. लखनऊ में लगे इन पोस्टरों पर काफी विवाद हुआ था. आज इस मामले की सुनवाई करते हुए शीर्ष अदालत ने योगी आदित्यनाथ सरकार से तीखे सवाल पूछे. अदालत ने कहा कि ऐसा कौन सा कानून है जो उसे ये पोस्टर लगाने का अधिकार देता है. इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने योगी सरकार के इस कदम को अवैध और मानवाधिकारों का उल्लंघन बताया था. उसने सरकार से ये पोस्टर हटाने को कहा था. इसके बाद योगी सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी.

सेंसेक्स में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट, कुछ ही घंटों में निवेशकों के 11 लाख करोड़ रु साफ

शेयर बाजार में आज एक बार फिर असाधारण गिरावट का दिन रहा. सेंसेक्स में करीब तीन हजार अंकों की गिरावट रही तो एनएसई के निफ्टी ने भी करीब 850 अंकों का गोता लगाया. सेंसेक्स में इतनी गिरावट पहले कभी नहीं देखी गई थी. उधर, दो साल में ऐसा पहली बार हुआ जब निफ्टी दस हजार के नीचे चला गया. इस तीखी गिरावट के चलते कुछ ही घंटों में निवेशकों के करीब 11 लाख करोड़ रु साफ हो गए. बीते कुछ दिनों के दौरान कोरोना वायरस और यस बैंक संकट से उपजे आर्थिक हालात से चिंतित विदेशी संस्थागत निवेशक जमकर बिकवाली कर रहे हैं. इसके चलते बैंकिंग से लेकर वाहन उद्योग तक सभी कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखी जा रही है.

इराक में एक रॉकेट हमले में दो अमेरिकी नागरिकों सहित तीन लोगों की मौत

इराक में एक सैन्य अड्डे पर हुए हमले में दो अमेरिकी नागरिकों सहित तीन लोग मारे गए. ये हमला बगदाद के पास ताजी नाम के एक सैन्य अड्डे पर रॉकेट के जरिये हुआ. इसमें करीब दर्जन भर लोग घायल भी हुए हैं. इस सैन्य अड्डे पर अमेरिकी और ब्रिटिश सैनिक इराकी सुरक्षा बलों को ट्रेनिंग देते हैं. अभी तक किसी ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. लेकिन माना जा रहा है कि ये काम ईरान के समर्थन वाले विद्रोही गुटों का हो सकता है. ईरान अपने पड़ोसी इराक में अमेरिका की मौजूदगी का लगातार विरोध करता रहा है.