अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट आयी है, लेकिन देश में उस हिसाब से पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम नहीं हुई हैं. इसे लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने कहा है कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर दामों में गिरावट का लाभ आम लोगों तक पहुंचाने की उनकी सलाह को सरकार ने नजरंदाज कर दिया है.

रविवार को राहुल गांधी ने एक ट्वीट में लिखा, ‘तीन दिन पहले ही मैंने प्रधानमंत्री कार्यालय से निवेदन किया था कि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तेल के दामों में गिरावट का लाभ आम लोगों तक पहुंचाया जाए, पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम की जाएं. लेकिन इस सलाह को मानने की बजाय, हमारे समझदार ने ईंधन पर एक्‍साइज ड्यूटी बढ़ा दी.’

कांग्रेस नेता ने अपने इस ट्वीट में एक वीडियो भी शेयर किया है. इसमें अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर तेल कीमतों में भारी गिरावट से जुड़े एक सवाल से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कथित तौर पर बचती नजर आ रही हैं.

शनिवार को सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाने का फैसला किया था. इसमें तीन रु प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है. इससे उसे 39 हजार करोड़ रु का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा. सरकार ने यह कदम अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बीच उठाया है.

पेट्रोल पर अब 22.98 तो डीजल पर 18.83 रु प्रति लीटर के हिसाब से एक्साइज ड्यूटी लग रही है. 2014 में जब मोदी सरकार ने कार्यभार संभाला था तो यह आंकड़ा क्रमश: 9.48 और 3.56 था.