कोरोना वायरस के मरीजों वाले राज्यों में अब उत्तराखंड भी शामिल हो गया है. यहां हाल ही में स्पेन से लौटा भारतीय विदेश सेवा का एक अधिकारी इसकी चपेट में आया है. उधर, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में दो और मामलों की पुष्टि के साथ भारत में इस कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 110 हो गई है. दिल्ली और कर्नाटक में इससे दो मौतें हो चुकी हैं.

दिल्ली में कोरोना वायरस के अब तक सात मामले सामने आ चुके हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में 12, महाराष्ट्र में 33, कर्नाटक में छह, लद्दाख में तीन और जम्मू-कश्मीर में दो लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं. इसके अलावा तेलंगाना में तीन और राजस्थान में दो जबकि तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पंजाब में एक-एक मामले दर्ज किये गये हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक 93 संक्रमित लोगों के संपर्क में आए 4,000 से अधिक लोगों की पहचान की गई है और उनका पता लगाया जा रहा है. देश भर में 42,000 लोगों को सामुदायिक निगरानी में रखा गया है. केरल में इलाज के बाद अब तक 13 लोगों को छुट्टी दे दी गई है.

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मुद्दे को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दक्षेस (सार्क) देशों के नेताओं और प्रतिनिधियों से बात की है. इस दौरान उन्होंने कोरोना वायरस से निपटने के लिये संयुक्त रणनीति बनाने और सतर्क रहने की जरूरत पर बल दिया. उधर, श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने इस मुद्दे पर दक्षेस मंत्रिस्तरीय समूह के गठन का प्रस्ताव किया. इस संवाद में मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह, नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली, भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य ममलों पर विशेष सहायक जफर मिर्जा भी शामिल हुए. दक्षेस क्षेत्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के लगभग 150 मामले आए हैं. पूरी दुनिया में इससे अब तक पांच हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और करीब सवा लाख लोग इसकी चपेट में हैं.