भारतीय सेना में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया है. खबरों के मुताबिक लद्दाख स्काउट्स के एक जवान में इसकी पुष्टि हुई है. बताया जा रहा है कि इस जवान के पिता बीते दिनों ईरान से तीर्थयात्रा कर लौटे थे. जब यह जवान छुट्टी पर अपने घर गया तो उनके संपर्क में आया और संक्रमित हो गया. अब उसे अस्पताल में सबसे अलग रखकर इलाज किया जा रहा है. उसके परिजनों और करीब 800 साथी जवानों को भी दूसरों से अलग रखकर उनकी जांच की जा रही है. इस मामले के बाद सरकार ने सुरक्षा बलों से बैटल मोड में आने यानी युद्ध स्तर की तैयारियां करने के लिए कहा है ताकि कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सके.

कोरोना वायरस से भारत में अब तक तीन मौतें हो चुकी हैं और करीब 150 लोग इसकी चपेट में हैं. उधर, पूरी दुनिया की बात करें तो अब तक इस वायरस से सात हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं और पौने दो लाख लोग इससे संक्रमित हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन इसे महामारी घोषित कर चुका है.

कोरोना वायरस के संक्रमण का असर धार्मिक स्थलों पर भी पड़ा है. वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने वैष्णो देवी यात्रा तत्काल स्थगित कर दी है. उधर, काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में भी प्रवेश रोक दिया गया है. राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल मेंहदीपुर बालाजी के दर्शन भी आम लोगों के लिए बंद कर दिए गए हैं. अब यहां केवल आरती होगी. उधर, अजमेर स्थित ख्वाजा साहब की दरगाह में जायरीनों की स्क्रींनिंग शुरू की गई है.