निर्भया मामले के दोषियों को फांसी दे दी गई है. चारों दोषियों को ये सजा दिल्ली की तिहाड़ जेल में सुबह 5:30 बजे दी गई. यह पहली बार था जब तिहाड़ में चार कैदियों को एक साथ फांसी हुई. आवश्यक औपचारिकताओं के बाद उनके शव उनके परिवारवालों को सौंप दिए जाएंगे. चारों दोषियों की फांसी इससे पहले डेथ वारंट जारी होने के बाद दो बार टल गई थी. कल भी दोषियों ने पटियाला हाउस कोर्ट से लेकर ऊपरी अदालतों तक याचिकाएं लगाईं थीं, लेकिन उनकी सजा पर रोक नहीं लगी.

16 दिसंबर, 2012 को दिल्ली में एक चलती बस में 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार और बर्बरता की गयी थी. उसी महीने सिंगापुर के एक अस्पताल में उसकी मौत हो गयी थी.

दोषियों को फांसी होने के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने संतोष जताया है. उन्होंने इसे देश की बेटियों के लिए एक नई सुबह बताया.