प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन के बाद से सोशल डिस्टेंसिंग और रविवार को लगाए जाने वाले जनता कर्फ्यू की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया है. इसके साथ ही, शाहरुख खान से लेकर कार्तिक आर्यन तक तमाम फिल्मी हस्तियां भी इस पर बात कर लोगों को प्रेरित कर रही हैं कि वे घर से बाहर कम से कम निकलें. कुछ ऐसी ही बातें वायरल हो रहे इस वीडियो में भी कही गई हैं. इसके खास और लोकप्रिय होने की एक बड़ी वजह यह है कि इसमें बहुत आसानी से लोगों को उनकी सामाजिक जिम्मेदारी निभाने के लिए सचेत किया गया है.

सोशल मीडिया पर चर्चित हो रहा यह वीडियो जर्मनी के फ्रैंकफर्ट शहर में रहने वाले अप्रवासी भारतीय, राकेश राजपूत का है. वीडियो में राकेश कहते हैं कि वे कई दिनों बाद घर से बाहर निकले हैं. इसका कारण बताते हुए वे यूरोपीय देशों में फैले भयानक संक्रमण की वजहों पर बात करते हैं. इसी के साथ बहुत आसान शब्दों में यूरोपीय देशों की गलतियां बताते हुए वे भारतीयों को उनसे सीख लेने की सलाह भी देते हैं. ऐसा करते हुए वे बताते हैं कि भारत और यूरोप में जनसंख्या और संसाधनों का फर्क कितना है और क्यों कोरोना वायरस का भारत में और फैल जाना बेहद खतरनाक हो सकता है.

यहां पर राकेश की यह बात ध्यान खींचती है कि वे महज पौने चार मिनट के इस वीडियो में सेना, देशभक्ति और सामाजिक जिम्मेदारी की सारी बातें कर डालते हैं. इससे यह भी पता चलता है कि वे भारत की स्थितियों पर नजर रखे हुए हैं और यह जानते हैं कि किस तरीके से कही गई बात का भारतीयों पर सबसे ज्यादा असर पड़ेगा. कुल मिलाकर, जो बात हमारे यहां बड़े-बड़े लोग लंबे भाषणों, विज्ञापनों और संदेशों से नहीं समझा पा रहे हैं, उसे एक जर्मनी में बैठे सच्चे भारतीय ने एक छोटे से वीडियो में बता दिया है.

Play