डॉक्टरों और नर्सों से घर खाली करने को कहने वाले मकान मालिकों के खिलाफ केंद्र सरकार ने सख्त कदम उठाया है. एक अधिसूचना में गृह मंत्रालय ने ऐसे मकान मालिकों पर संबंधित जिलाधिकारियों को दंडात्मक कार्रवाई का अधिकार दे दिया है. दिल्ली सहित देश के विभिन्न इलाकों से खबरें आ रही थीं कि कोरोना वायरस के डर के चलते कई मकान मालिक अपने किराएदार डॉक्टरों और नर्सों से मकान खाली करने के लिए कह रहे हैं. गृह मंत्रालय ने एक आदेश में कहा है कि ऐसा व्यवहार न सिर्फ महामारी से लड़ने की गति को धीमा करता है बल्कि जरूरी सेवाओं में जुटे लोगों को परेशान भी करता है.

केंद्र सरकार ने संबंधित अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे इस मुद्दे पर रोज कार्रवाई रिपोर्ट दें. गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव को डॉक्टरों, मेडिकल स्टाफ और उनके परिवारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को भी कहा है. उन्होंने कहा कि जब पूरा देश कोरोना वायरस को रोकने की कोशिशों में जुटा है तो ऐसे में इसमें केंद्रीय भूमिका निभा रहे डॉक्टरों और अन्य चिकित्सा कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उधर, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी कहा है कि जो मकान मालिक एयरलाइंस कर्मियों को परेशान कर रहे हैं उनके खिलाफ भी पुलिस और संबंधित अधिकारी कार्रवाई करेंगे.

उधर, दिल्ली सरकार ने भी ऐसे मकान मालिकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि सरकार और पूरा देश स्वास्थ्यकर्मियों के साथ है.