दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से देश की राजधानी को न छोड़ने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि दिल्ली सरकार लोगों के रहने और खाने का पूरा इंतजाम कर रही है और अब किसी को भी लॉकडाउन से परेशानी नहीं होगी.

शनिवार शाम को मीडिया को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘सड़कों पर बहुत सारे लोग हैं, ये दिल्ली छोड़ कर अपने गांव जाना चाहते हैं...हमारे सभी मंत्री और विधायकों को मैंने बोला है, वो जाकर उनसे रुकने की अपील कर रहे हैं. कुछ लोग मान भी गए, लेकिन काफी लोग हैं जो अभी भी जाना चाहते हैं.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने पलायन करने वाले लोगों को मनाने की कोशिश करते हुए कहा, ‘अगर आप लॉकडाउन का पालन नहीं करेंगे. शहर छोड़ कर जाएंगे तो कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ता जाएगा. ऐसे में मेरी आपसे अपील है कि जो जहां है वो वहीं रहे. स्कूल में नाइट शेल्टर का इंतजाम कर रहे हैं, जहां खाने-पीने का इंतजाम है. आपको जो भी दिक्कत आ रही है, मैं आश्वासन देता हूं कि आपको कोई दिक्कत नहीं आने देंगे.’

इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सरकार द्वारा अब तक किए गए इंतजामों के बारे में भी जानकारी दी. उनका कहना था, ‘हमने आज से गरीब लोगों को खाना खिलाने के लिए कहा था. चार लाख लोगों को खाना खिलाने की हमारी तैयारी हो गई है.’ केजरीवाल के मुताबिक आज 568 स्कूलों में खाना खिलाने का इंतजाम शुरू हो गया है. 238 रैन बसेरों में खाना खिलाया जा रहा है. इसके अलावा ट्रकों में फ्लाइंग स्कवायड चल रहा है, जो जगह-जगह लोगों को खाना खिला रहे हैं.

दिल्ली सहित देश के कई हिस्सों में लॉकडाउन की वजह से दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों की मुश्किलें बढ़ गयी हैं. काम न मिलने के चलते बड़ी संख्या में मजदूर अपने गांवों जाने के लिए निकल पड़े हैं. शनिवार को दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर हजारों की संख्या में मजदूर अपने घरों को जाने के लिए उमड़ पड़े. दिल्ली के धौलाकुआं इलाके में भी हजारों की संख्या में मजदूर सड़क पर डेरा डाले हुए हैं.