केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने लॉकडाउन के सकारात्मक नतीजे सामने आने का दावा किया है. मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने सोमवार को कहा, ‘संक्रमण को रोकने के लिए देश में किए गए लॉकडाउन के कुछ हद तक पॉजिटिव रिजल्ट मिल रहे हैं. विकसित देशों में जो तेज़ी से आंकड़ा बढ़ा, वैसा हमारे यहां नहीं है. सौ से 1000 केस तक जाने में हमारे देश में 12 दिन लगे. जबकि विकसित देशों में इतने ही दिनों में 3500, 5000, 8000 केस आए हैं.’

दिल्ली में मीडिया से बातचीत अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए समाज के हर व्यक्ति का सहयोग जारी रहना चाहिए. अगर एक भी व्यक्ति छूटता है, सहयोग नहीं करता है तो जीरो पर आ जाएंगे. दिशा निर्देश पर सौ प्रतिशत अमल हो. यदि 99 फीसदी भी हुआ तो सब बेकार हो जाएगा. संयुक्त सचिव ने जानकारी देते हुए यह भी बताया कि 38,442 टेस्ट अब तक हुए हैं. इस समय 115 आईसीएमआर लैब और 47 प्राइवेट लैब टेस्ट कर रही हैं.

लव अग्रवाल का आगे कहना था, ‘सरकारी दस्तावेजों में अगर हम कम्युनिटी लिख देते हैं तो लोग अलग तरीके से लेने लगते हैं. अभी हमारा देश लोकल ट्रांसमिशन की स्टेज में है. जो आंकड़े आ रहे हैं, बता रहे हैं कि हमारी दिशा ठीक है और इसी को बरकरार रखने की कोशिश होनी चाहिए.’

देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. सोमवार को कोरोना वायरस के 170 नए मामले सामने आये जिसके बाद पीड़ितों की संख्या 1308 हो गयी है. देश में इस महामारी के चलते 32 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. हालांकि, 123 लोग अब तक इस बीमारी से सही हो चुके हैं.