देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई सहित सार्वजनिक क्षेत्र के ज्यादातर बैंकों ने ग्राहकों को लोन की ईएमआई से तीन महीने के लिए छूट देने का ऐलान कर दिया है. कोरोना वायरस से पैदा हुए हालात के चलते रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इसका निर्देश दिया था. एसबीआई के अलावा बैंक ऑफ बड़ोदा, पंजाब एंड सिंध बैंक, आईडीबीआई बैंक, केनरा बैंक और दूसरे सभी बैंकों ने इसकी सूचना अपने ग्राहकों को दे दी है. निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक ने भी इस छूट का ऐलान किया है. यह क्रेडिट कार्ड पेमेंट पर भी लागू होगी.

ईएमआई में यह छूट कैसे मिलेगी, इसे लेकर अलग-अलग बैंक अलग-अलग प्रक्रियाओं का पालन कर रहे हैं. उदाहरण के लिए एसबीआई में यह छूट वैकल्पिक है. यानी जो ग्राहक ईएमआई में छूट चाहते हैं उन्हें इस बारे में बैंक को बताना होगा. वे इस लिंक (https://bit.ly/2UUEorp) पर क्लिक करके फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं. भरने के बाद इसे अलग-अलग क्षेत्रों के हिसाब से अलग-अलग ईमेल आईडी पर भेजना होगा. इसके लिए आप इस लिंक (https://bit.ly/3bJc4yK) की मदद ले सकते हैं. आपको इसके साथ एक एनएसीएच/ईसीएस मैंडेट एक्सटेंशन फॉर्म भी अटैच करना होगा जो इस लिंक (https://bit.ly/340Q2VG) से डाउनलोड किया जा सकता है

उधर, आईडीबीआई के सिर्फ उन्हीं ग्राहकों को बैंक को सूचित करना होगा जो ईएमआई में यह छूट नहीं चाहते. इसकी आखिरी तारीख तीन अप्रैल है. केनरा बैंक ने ग्राहकों से कहा है कि जो यह छूट नहीं चाहते. वे एमएमएस में NO लिखकर उसे फोन नंबर 8422004008 पर भेज दें. वे बैंक को retailbankingwing@canarabank.com पर भी यह सूचना दे सकते हैं. बाकी बैंकों के ग्राहक इस बारे में अपने बैंक से पता कर सकते हैं.

अगर आप यह छूट लेते हैं तो इसका मतलब यह है कि आपके लोन की अवधि तीन महीने के लिए बढ़ जाएगी. यानी अगर आपका लोन एक मार्च 2025 को पूरा हो रहा है तो अब यह एक जून को पूरा होगा. उधर, एसबीआई ने साफ किया है कि तीन महीने की छूट की अवधि के दौरान वह ब्याज में छूट नहीं देगा. और यह ब्याज छूट की अवधि पूरा होने के बाद वसूला जाएगा. यानी तब आपकी ईएमआई बढ़ जाएगी. यह कितनी होगी इसके लिए आप बैंक से संपर्क कर सकते हैं. छूट लेने वाले ग्राहकों के क्रेडिट स्कोर पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ेगा.