देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. अब तक इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या तीन हजार पार कर गई है. ज्यादा चिंता की बात यह है कि बीते तीन दिनों में संक्रमण के मामलों का आंकड़ा दोगुना हो गया है. अधिकारियों का कहना है कि ऐसा तबलीगी जमात के कार्यक्रम से जुड़े मामलों के कारण हुआ है. पिछले महीने दिल्ली में हुए इस आयोजन में हजारों लोग इकट्ठा हुए थे. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक ऐसे अब तक कुल 647 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है. भारत में अब तक जो 90 मौतें हुई हैं उनमें से 15 के तार भी तबलीगी जमात के इस आयोजन से जुड़ रहे हैं.

इसके बाद सोशल मीडिया पर तबलीगी जमात से जुड़े कई दावे हो रहे हैं. उदाहरण के लिए इन दिनों वाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इसके हवाले से दावा किया जा रहा है कि तबलीगी जमात के लोग पुलिस और स्वास्थ्यकर्मियों पर थूक रहे हैं जिससे उनमें भी कोरोना वायरस का संक्रमण फैल जाये. इस वीडियो में एक वैन दिख रही है जिसमें एक शख्स के इर्द-गिर्द कुछ पुलिसकर्मी बैठे हैं. इसी दौरान यह शख्स सामने बैठे पुलिसकर्मी पर थूकता है. इसके बाद पुलिसकर्मी उठ कर उसे मारने लगते हैं. इस वीडियो को तबलीगी जमात से जोड़ा जा रहा है.

इससे पहले खबर आई थी कि तबलीगी जमात के आयोजन में हिस्सा लेने वाले लोगों को जब अस्पताल भेजा जा रहा था तो उन्होंने डॉक्टरों सहित स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ बदसलूकी की और उन पर थूका. वायरल हो रहे वीडियो को इस खबर के साथ जोड़ कर शेयर किया जा रहा है.

अब सवाल उठता है कि क्या यह वीडियो सही है. जवाब है वीडियो तो सही है, लेकिन इसका संदर्भ सही नहीं है. दरअसल यह एक पुराना वीडियो है और महाराष्ट्र के ठाणे का है. पुलिस की वैन में बैठा यह शख्स एक अंडरट्रायल कैदी था. मुंबई मिरर ने इस वीडियो को 29 फरवरी, 2020 को शेयर किया था.

इस शख्स का नाम मोहम्मद सुहैल शौकत अली है. इसे अदालत में सुनवाई के लिए लाया गया था. उसका परिवार उसके लिए घर का खाना लेकर आया था लेकिन पुलिस ने उसे यह खाना नहीं खाने दिया. इससे नाराज हो कर उसने पुलिसकर्मियों को भला-बुरा कहा और उन पर थूका. इसके बाद शौकत अली की पिटाई हुई. यह पूरा वीडियो 49 सेकेंड का है और इसमें शौकत अली को पुलिसकर्मियों से बहस करते और उन्हें गालियां देते हुए भी सुना जा सकता है. लेकिन फिलहाल इस वीडियो का 27 सेकेंड का हिस्सा काटकर उसे तबलीगी जमात से जोड़ा जा रहा है.