कोरोना वायरस से उपजे संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उनके सभी मंत्रियों और सभी दलों के सांसदों ने एक साल तक अपने वेतन का 30 फीसदी हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया है. खबरों के मुताबिक कैबिनेट ने सोमवार को इस संबंध में एक अध्यादेश जारी किया. इसके साथ ही राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और राज्यपालों ने भी अपने वेतन में 30 फीसदी की कटौती करने की पेशकश की है. कैबिनेट ने दो साल के लिए सांसद निधि को निलंबित रखने का फैसला भी किया है. इसके मद में जाने वाली 7900 करोड़ रु की रकम अब कंसॉलिडेटेड फंड्स ऑफ इंडिया यानी संचित निधि में जाएगी. सरकार को प्राप्त राजस्व, बाजार से लिए गए ऋण और स्वीकृत ऋणों पर प्राप्त ब्याज इसी निधि में जाता है.

खबरों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 4405 हो गई है. अब तक इस वायरस के संक्रमण से 132 मौतें हो चुकी हैं. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोरोना वायरस से उपजी वैश्विक महामारी से निपटने के लिए भारत के अब तक के प्रयासों ने दुनिया के सामने एक अलग ही उदाहरण प्रस्तुत किया है. उनके मुताबिक भारत दुनिया के उन देशों में से है जिसने कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा और इसके खिलाफ एक व्यापक जंग की शुरुआत की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘भारत ने एक के बाद एक निर्णय किए. उन फैसलों को जमीन पर उतराने का भरसक प्रयास किया. हर स्तर पर एक के बाद एक प्रोएक्टिव होकर भारत ने कई फैसले लिए.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये सभी बातें भाजपा के 40वें स्थापना दिवस के मौके पर वीडियो के जरिए कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहीं. उन्होंने कहा, ‘कोरोना के खिलाफ लड़ाई लंबी है. हमें न थकना है और न हारना है. लंबी लड़ाई के बाद भी जीतना है. विजयी होकर निकलना है. आज देश का लक्ष्य एक है, मिशन एक है, और संकल्प एक है- कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में जीत.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कार्यकर्ताओं से गरीबों तक राशन पहुंचाने के लिए लगातार सेवा अभियान चलाने का आग्रह भी किया. उनका कहना था, ‘दूसरा आग्रह है, अपने साथ ही आप 5-7 अन्य लोगों के लिए फेस-कवर बनवाएं और उनका वितरण करें. तीसरा आग्रह है, नर्स और डॉक्टर, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, बैंक और पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी और आवश्यक सेवाओं में जुटे हुए सभी कर्मचारियों को धन्यवाद देना. चौथा आग्रह है, ज्यादा से ज्यादा लोगों को आरोग्य सेतु ऐप की जानकारी दें और कम से कम 40 लोगों के मोबाइल में ये ऐप इंस्टॉल भी करवाएं. पांचवां आग्रह है, पीएम-केयर्स फंड में प्रत्येक भाजपा कार्यकर्ता को खुद भी सहयोग करना है और 40 अन्य लोगों से भी इसमें सहयोग करने के लिए प्रेरित करना है.’