कोरोना वायरस संकट के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक पत्र लिखा है. कांग्रेस अध्यक्ष इस पत्र में प्रधानमंत्री से अपील की है कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत गरीबों को सितंबर 2020 तक सरकार मुफ्त अनाज मुहैया कराया जाए. बीते महीने लॉकडाउन की घोषणा के बाद मोदी सरकार ने जून 2020 तक गरीबों को मुफ्त में अनाज देने की घोषणा की थी.

सोमवार को लिखे पत्र में सोनिया गांधी ने कहा है कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत अप्रैल से जून तक प्रति व्यक्ति पांच किग्रा अतिरिक्त मुफ्त अनाज देने का फैसला प्रशंसनीय है. लेकिन लॉकडाउन का असर और इसके लंबे प्रभाव की वजह से वे सरकार को कुछ सुझाव देना चाहती हैं.

उनके मुताबिक सबसे पहले तो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के लाभार्थियों को 10 किग्रा प्रति व्यक्ति अनाज देने की समय सीमा को तीन महीने के लिए यानी सितंबर 2020 तक बढ़ा दिया जाना चाहिए. साथ ही इस दौरान गरीबों को 10 किग्रा राशन मुफ्त में ही दिया जाना चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष ने सरकार को एक और सुझाव भी दिया है. उन्होंने कहा है कि कई ऐसे लोग हैं जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के दायरे में नहीं आते हैं, लेकिन लॉकडाउन के चलते उनके सामने भी आजीविका का संकट आ गया है. ऐसे लोगों को भी प्रति व्यक्ति 10 किग्रा के हिसाब से अगले छह महीने तक मुफ्त अनाज दिया जाना चाहिए.