बिहार भाजपा के विधायक अनिल सिंह को अपने बेटे को कोटा से लाने के लिए ‘विशेष पास’ दिए जाने पर सियासत तेज हो गयी है. इसे लेकर जेडीयू के पूर्व नेता प्रशांत किशोर ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तीखा हमला बोला है.

प्रशांत किशोर ने एक ट्वीट में लिखा है, ‘कोटा में फंसे बिहार के सैकड़ों बच्चों की मदद की अपील को नीतीश कुमार ने यह कहकर खारिज कर दिया था कि ऐसा करना लॉकडाउन की मर्यादा के खिलाफ होगा. लेकिन अब उन्हीं की सरकार ने भाजपा के एक विधायक को (राजस्थान के) कोटा से अपने बेटे को लाने के लिए विशेष अनुमति दी है. नीतीश जी अब आपकी मर्यादा क्या कहती है?’ प्रशांत किशोर ने वह ‘विशेष पास’ भी अपने ट्वीट में साझा किया है, जो नवादा जिले के एसडीएम ने विधायक अनिल सिंह को बनाकर दिया है.

भाजपा विधायक को ‘विशेष पास’ दिए जाने को लेकर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. तेजस्वी ने एक ट्वीट में लिखा है, ‘बिहार के मुख्यमंत्री यूपी के मुख्यमंत्री को कह रहे थे कि उन्हें कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने के लिए बसों को अनुमति नहीं देनी चाहिए थी. दूसरी तरफ अपने विधायक को गोपनीय तरीके से उनके बेटे को वापस लाने की अनुमति दे रहे थे. बिहार में ऐसे अनेकों वीआईपी और अधिकारियों को पास निर्गत किए गए. फंसे बेचारा गरीब..’

बीते हफ्ते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जब कोटा में फंसे उत्तर प्रदेश के छात्रों को लाने के लिए बसें भेजी थीं तो बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने इसकी आलोचना की थी. तब नीतीश कुमार ने कहा था कि ऐसा करना लॉकडाउन की मर्यादा के खिलाफ होगा.