जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने अमरनाथ यात्रा को रद्द करने के अपने फैसले को वापस ले लिया है. जम्मू-कश्मीर सूचना निदेशालय ने उस प्रेस नोट को वापस ले लिया है जिसमें 23 जून से शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा के रद्द होने की जानकारी दी गयी थी.

इससे पहले आज दोपहर में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल और अमरनाथ श्राइन बोर्ड के चेयरमैन गिरीश चंद्र मुर्मू की अध्यक्षता में एक बैठक हुई थी. इस बैठक में सर्वसम्मति से इस साल की यात्रा न करवाने का फैसला लिया गया था. मीडिया को बताया गया था कि बैठक के दौरान इस बात पर चर्चा हुई कि पूरी कश्मीर घाटी में अमरनाथ यात्रा के लिए जहां-जहां से श्रद्धालु गुजरते हैं, उनमें से 77 कोरोना रेड जोन हैं. इसके चलते रास्ते में लंगरों की व्यवस्था, मेडिकल सुविधाएं, कैंप लगाना, सामानों की आवाजाही, रास्ते पर पड़े बर्फ को हटाना संभव नहीं हो सकेगा. और ऐसे में यात्रा को रद्द करना ही एक बेहतर विकल्प है.

बैठक के दौरान बोर्ड ने यह भी तय किया था कि बाबा बर्फानी की प्रथम पूजा और समापन पूजा पारंपरिक हर्ष और उल्लास के साथ की जाएगी.